Hindi Blogs

सरलता बनाए रखें

अंग्रेजी का एक मुहावरा है, ‘KISS’ यानी ‘कीप इट सिम्पल स्टूपिड’। सचमुच, यदि हम चीजों को सहज-सामान्य नहीं बनाए रख पाते हैं, तब हम अपनी मूर्खता नहीं महामूर्खता साबित कर रहे होते हैं। अनजाने में हम चीजों को, कार्य को, सम्बंधों को इतना जटिल बना देते हैं कि उससे सबकुछ बिगड़ जाता है। नतीजा, अनचाहा तनाव तथा समय और ऊर्जा की बरबादी।

कार्य स्थलों में, खासकर स्थापित संगठनों में व्यवस्था इतनी जटिल और बोझिल होती है कि नियत कार्य पूर्ण करने में अधिक ऊर्जा, समय और धन की जरुरत होती है। किसी भी काम को यदि आप एक ही तरीके से साल भर या उससे भी ज्यादा समय में पूरा करते हैं तो संभव है कि आप उस काम को असक्षम तरीके से कर रहे हैं। हम चाहे जो करते हों, समय-समय पर सवालों के जरिए उसका आकलन करना चाहिए, जैसे फलां काम को हम इसी तरीके से क्यों कर रहे हैं? यदि हम कार्यपद्धति पर सवाल उठाते हैं और अपनी रचनात्मकता का इस्तेमाल करते हैं तो हम निश्चित तौर पर उसी काम को आसान और किफायती तरीके से पूर्ण करने के बेहतर तरीके खोज पाते हैं.

इसे सम्बंधों पर भी लागू किया जा सकता है. यदि हम सीधे संवाद के जरिए उनमें सहजता बनाए रखते हैं तो हम एक मजबूत सम्बंध विकसित कर पाते हैं. तथ्यहीन झूठ के आधार पर लगाए गए बेकार के अनुमानों के बल पर हम अपने सम्बंधों को जटिल बना लेते हैं।

जीवन को सहज बनाए रखने के पाँच उपाय
1. अपने आचरण में ईमानदारी बनाए रखें।
2. अपनी व्यवस्था एवं प्रक्रियाओं का नियमित आकलन करते रहें।
3. हर कार्य एवं प्रदर्शन में रचनात्मकता एवं नवीनता का प्रयोग करें।
4. नौकरशाही और दोहराव हटाकर प्रक्रिया को संक्षिप्त बनाएं।
5. सहभागी जनों से पुष्टिकरण करते रहें।

Hemant Lodha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *