Hindi Blogs

विरासत छोड़कर जाना

किसी चीज की पहलकदमी से विरासत उत्पन्न होती है जो आपके साथ समाप्त नहीं होती। सभी लोग कुछ ऐसा छोड़ जाना चाहते हैं जो उनकी मृत्यु के बाद भी शेष रहे. महावीर, बुद्ध, कबीर, आइन्स्टाइन, गाँधी और मदर टेरेसा आदि जैसे लोग मिसाल हैं जिन्होंने अपने जीवनकाल में महान कार्य किए और जिन्हें आने वाले कई शताब्दियों तक याद किया जाता रहेगा।

आमतौर पर होता यह है कि हम अपने दैनिक जीवन में, दो वक़्त की जरुरतों को पूरा करने में, धन संचय में, भौतिक जीवन के पीछे भागने में मशगूल हो जाते हैं, लेकिन हम पर्याप्त रुप से इतना सार्थक कुछ भी नहीं करते जिससे मृत्यु के तीसरे दिन भी हम याद किए जाएं। हमारा परिवार जरुर कुछ ज्यादा समय के लिए शोकग्रस्त रहता है।

विरासत छोड़ जाने के पाँच उपाय
1.       अपने बच्चों को बेहतर मनुष्य बनाने लायक परवरिश, शिक्षा और प्रशिक्षण देकर।
2.       आमजन के इस्तेमाल के लिए स्मारक या संस्थान बनाकर।
3.       किताब लिखकर।
4.       दीर्घकालीन एवं उच्च मानदंड युक्त नैतिक मूल्यों एवं सिद्धांतों वाले संगठन की रचना कर।
5.       फिल्म, खेल, कविता, कला, राजनीति या अन्य किसी व्यवसाय के सितारे बनकर।

Hemant Lodha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *