Haiku by Hemant Lodha

है बीती रात जन्मी ढेर आशायें हो सुप्रभात। स्वस्थ रहे नैसर्गिक सुन्दरता तन व मन। प्रेम का रस जब डालो सेवा में सब सरस। मैं ही मैं बसा मैं में शहर फँसा गाँव में मैं […]